Ayurvedic Treatment for Facial Warts चेहरे के मस्सों का आयुर्वेदिक उपचार | Dr. JAMERIYA

चेहरे के मस्सों का आयुर्वेदिक उपचार: साफ त्वचा के लिए प्राकृतिक उपचार Ayurvedic Treatment for Facial Warts?

चेहरे के मस्सों का आयुर्वेदिक उपचार


चेहरे पर मस्से एक कष्टप्रद और भद्दी त्वचा की स्थिति हो सकती है जिसे कई लोग ख़त्म करना चाहते हैं। आयुर्वेद, प्राचीन भारतीय चिकित्सा प्रणाली, चेहरे के मस्सों सहित विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए समग्र दृष्टिकोण प्रदान करती है। आयुर्वेदिक उपचारों के बारे में जानने से पहले आइए समझें कि मस्से क्या होते हैं और ये क्यों होते हैं।

1. मस्सा क्या है? Massa Kya Hai?


मस्सा मानव पेपिलोमावायरस (Human papilloma virus) के कारण त्वचा पर एक छोटी, खुरदरी वृद्धि है। वे चेहरे सहित शरीर के किसी भी हिस्से पर दिखाई दे सकते हैं। मस्से संक्रामक होते हैं और त्वचा से त्वचा के सीधे संपर्क या वायरस वाली सतहों के संपर्क से फैल सकते हैं।

2. मस्से क्यों होते हैं? Masse Kyon Hote Hain?

मस्सों का प्राथमिक कारण एचपीवी संक्रमण (HPV) है। वायरस त्वचा में छोटे-छोटे कट या दरार के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है, जिससे मस्सों का विकास होता है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, कट और खरोंच जैसे कारकों से मस्से विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है।

3. मस्सों के लक्षण Masson Ke Lakshan kya hai?

मस्से अक्सर खुरदरी सतह वाले छोटे, मांसल उभार के रूप में प्रकट होते हैं। उनमें काले बिंदु हो सकते हैं, जो मस्से को आपूर्ति करने वाली छोटी रक्त वाहिकाएं हैं। मस्से खुजली या दर्दनाक हो सकते हैं, खासकर जब वे पैरों जैसे दबाव बिंदुओं पर स्थित हों।


4. मस्सों के विभिन्न प्रकार Masse kitne Prakaar ke hote hai?

आधुनिक विज्ञान के अनुसार, विभिन्न प्रकार के मस्सों की पहचान की गई है, जो आकार और स्थान के साथ-साथ इसमें शामिल मानव पैपिलोमावायरस के प्रकार में भिन्न होते हैं। इसमे शामिल है:

सामान्य मस्सा (वेरुका वल्गेरिस): खुरदरी सतह वाला एक उभरा हुआ मस्सा, जो हाथों और घुटनों पर सबसे आम होता है।

चपटा मस्सा (वेरुका प्लाना): एक छोटा, चिकना चपटा मस्सा, भूरे या मांस के रंग का, जो बड़ी संख्या में हो सकता है; चेहरे, गर्दन, हाथ, कलाई और घुटनों पर सबसे आम।

फ़िलीफ़ॉर्म या डिजिटेट मस्सा: एक धागे या उंगली जैसा मस्सा, जो चेहरे पर सबसे आम है, खासकर पलकों और होंठों के पास।

प्लांटर मस्सा (वेरुका, वेरुका पेडिस): एक कठोर गांठ जो कभी-कभी दर्दनाक होती है, जिसके बीच में अक्सर कई काले धब्बे होते हैं; आमतौर पर यह केवल पैरों के तलवों पर दबाव बिंदुओं पर पाया जाता है।

मोज़ेक मस्सा: आमतौर पर हाथों या पैरों के तलवों पर कसकर गुच्छित तल-प्रकार के मस्सों का एक समूह।

जननांग मस्सा (वेनेरियल मस्सा, कॉन्डिलोमा एक्यूमिनेटम, वेरुका एक्यूमिनटा): जननांग क्षेत्रों को प्रभावित करने वाला मस्सा।

5. मस्सों को रोकने या उनसे बचने के तरीके Masson ko Rokane ya Unase bachane ke Tareeke


मस्से की रोकथाम में अच्छी स्वच्छता बनाए रखना और स्वस्थ आदतें अपनाना शामिल है:

- मस्से के सीधे संपर्क से बचें।

- त्वचा के कटे और खरोंचों को साफ रखें।

- पूल और शॉवर जैसे सार्वजनिक स्थानों पर जूते का उपयोग करें।

- संतुलित आहार और नियमित व्यायाम के माध्यम से अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करें।


चेहरे के मस्सों का आयुर्वेदिक उपचार

6. मस्सों के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपचार Masson ke lie Aayurvedik Ghareloo Upachaar

आयुर्वेद चेहरे के मस्सों को हटाने के लिए विभिन्न प्राकृतिक उपचार प्रदान करता है। ये उपचार आम रसोई सामग्री के उपचार गुणों का उपयोग करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

1. प्याज का रस 

मस्सों पर प्याज का रस लगाने से उन्हें समय के साथ खत्म करने में मदद मिल सकती है। प्याज के रोगाणुरोधी गुण मस्से हटाने में सहायता करते हैं।

2. फ्लॉस बांधना

फ्लॉस का एक टुकड़ा मस्से के आधार के चारों ओर बांधने से इसकी रक्त आपूर्ति बंद हो जाती है, जिससे यह अंततः गिर जाता है।

3. बरगद का पत्ता

बरगद के पत्ते का पेस्ट मस्सों पर लगाने से उन्हें कम करने में मदद मिल सकती है। बरगद के पत्तों में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीवायरल गुण होते हैं।

4. आलू के स्लाइस

आलू के स्लाइस को मस्सों पर रगड़ने से आलू में मौजूद एंजाइम और विटामिन के कारण मस्सों के उपचार को बढ़ावा मिल सकता है।

5. अलसी

पिसी हुई अलसी का लेप पानी में मिलाकर मस्सों पर लगाया जा सकता है। अलसी में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं।

6. सेब साइडर सिरका

सेब साइडर सिरका की अम्लीय प्रकृति मस्सों को हटाने में मदद कर सकती है। इसे नियमित रूप से लगाने से मस्से सूखने में मदद मिलती है।

7. लहसुन की फली

लहसुन की फली को कुचलकर मस्सों पर लगाने से माना जाता है कि इसमें एंटीवायरल गुण होते हैं, जो उन्हें खत्म करने में मदद करते हैं।

8. अनानास का रस

मस्सों पर ताजा अनानास का रस लगाने से ऊतकों को तोड़ने और उनकी उपस्थिति को कम करने में मदद मिल सकती है।

9. मोसंबी जूस

मौसंबी (मीठा नीबू) का रस मस्सों पर लगाने से इसके अम्लीय और जीवाणुरोधी गुणों के कारण मदद मिल सकती है।

10. केले का छिलका

केले के छिलके का एक टुकड़ा मस्सों पर रखकर पट्टी से बांधने से मस्से हटाने में मदद मिल सकती है।

11. गर्म पानी का सेक

गर्म पानी का सेक नियमित रूप से लगाने से मस्सों के आकार और परेशानी को कम करने में मदद मिल सकती है।

7. आयुर्वेद चिकित्सा में मस्सों का प्रबंधन

आयुर्वेद में भी, विभिन्न उपचार सिद्धांतों की व्याख्या की गई है जैसे आंतरिक रूप से दवाओं का प्रशासन, दवाओं का बाहरी अनुप्रयोग और पैरासर्जिकल प्रक्रियाएं [i.e. रक्तमोक्षण (रक्तपात), क्षारकर्म (रासायनिक दाह) और अग्निकर्म (थर्मल दाह)]

ये स्वदेशी उपचार विधियां न्यूनतम आक्रामक प्रक्रियाएं हैं जो निशान बनने का कारण नहीं बनती हैं, पुनरावृत्ति नहीं होती हैं और मस्सों के उपचार में अधिक फायदेमंद पाई जाती हैं।

8. डॉक्टर को कब दिखाना है?

हालाँकि आयुर्वेदिक उपचार प्रभावी हो सकते हैं, लेकिन डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है यदि:

- मस्से बने रहना या उनकी संख्या में वृद्धि होना।

- मस्से गंभीर दर्द या रक्तस्राव का कारण बनते हैं।

- मस्से चेहरे, जननांगों या श्लेष्मा झिल्ली पर विकसित होते हैं।


निष्कर्ष- आयुर्वेद चेहरे के मस्सों के लिए प्राकृतिक उपचारों की एक श्रृंखला प्रदान करता है। हालाँकि, सावधानी बरतना और ज़रूरत पड़ने पर पेशेवर चिकित्सा सलाह लेना आवश्यक है। अच्छी स्वच्छता प्रथाओं और स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने से मस्सों की पुनरावृत्ति को रोकने में काफी मदद मिल सकती है।


Reference :

Important Note : ध्यान रहे इस आर्टिकल में बताई गयी सभी उपचार व अन्य जानकारी आपको सचेत करने के लिए दी गई है. वही अगर आप पहले से किसी भी प्रकार की अन्य किसी गंभीर बीमारी, एलर्जी इत्यादि से पीड़ित है तो डॉक्टर से गम्भीरता से इलाज करवाए!

Post a Comment